एक माह बाद होनी थी इस युवक की शादी,दोस्तों ने मिलकर कर दी हत्या

390 By 7newsindia.in Thu, Feb 1st 2018 / 13:59:55 कानून-अपराध     

ग्वालियर / सर्वेश त्यागी
अपनी शादी के लिए टेंट बुक करने निकले युवक की घर से करीब १०० कदम की दूरी पर पत्थरों से कुचलकर हत्या कर दी। बूढ़ी मां रात भर उसका इंतजार करती रही, उसे नहीं पता था बेटे का शव घर के पीछे पड़ा है। शव के पास शराब की खाली बोतल,पानी के दो पाऊच और पुडि़या में नमकीन पड़ा मिला। जाहिर है हत्यारों ने उसके साथ शराब पी फिर मार डाला। अंधे कत्ल में पुलिस ने एक संदेही को घेरे में लिया है। मरीमाता महलगांव में विवेक जाटव (२१) पुत्र प्रकाशचंद की बेहरमी से हत्या हो गई। विवेक का शव बस्ती में नगर निगम की लाइब्रेरी की दीवार से सटा मिला है। हत्यारे उसे जिंदा नहीं छोडऩा चाहते थे, इसलिए सिर पर गटर की पटिया और खण्डा पटका।

जाहर सिंह ने बताया विवेक की ६ मार्च को शादी होना थी। मंगलवार शाम को टेंट बुक करने के लिए घर से निकला था। एडवांस देने के लिए मां से पांच हजार रुपए भी लिए थे।उसके बाद विवेक वापस नहीं आया। सुबह मोहल्ले वालों ने गली में उसका खून से लथपथ शव पड़ा देखा। हत्यारों ने बेरहमी से उसकी जान ली थी। विवेक का सिर और चेहरा कुचला था। उसकी जेब से पांच हजार रुपए गायब थे। आशंका है हत्यारे उसके परिचित हैं। उन्हें पता था विवेक के पास पैसा है तो शराब पार्टी के बहाने उसे ले जाकर मार डाला। पुलिस के मुताबिक विवेक की जेब से मोबाइल फोन मिला है।

गली के मोड़ पर सीसीटीवी कैमरा भी लगा है लेकिन उसमें कोई आता जाता नहीं दिखा है। विवेक का दोस्त अशोक मंगलवार शाम को उसके साथ देखा गया था। कुछ समय पहले तक अशोक बस्ती में किराए से रहता था। पड़ाव टीआई संतोष यादव ने बताया विवेक की जेब से मोबाइल फोन मिला है। उसकी किन लोगों से बात हुई थी पता लगाया जा रहा है।

कुछ साल पहले पति की हुई थी हत्या।

हत्यारों ने मेरी दुनिया उजाड़ दी,कुछ साल पहले इसी तरह पति की जान गई थी। छोटा बेटा मानसिक रूप से कमजोर है। बेटा विवेक ही अकेला सहारा था। एक महीने बाद उसकी शादी होना थी। मंगलवार को विवेक शाम करीब ५ बजे घर से जाते समय बोल गया था दाल चावल बनाकर रखना लौट कर आता हूं। रात करीब १२ बजे तक उसका इंतजार किया। पति की मौत के बाद यूको बैंक में साफ-सफाई की नौकरी मिली है। बेटा विवेक भी साथ बैंक जाता था। सुबह तक नहीं आया तो डयूटी चली गई।गली में सुबह भीड़ लगी थी,लेकिन बैंक पहुंचने की जल्दी में ध्यान नहीं दिया। कुछ देर बाद पता चला कि बेटे की हत्या हो गई।उसका ही शव घर के पास पड़ा था।

देहरी पर नमकीन,कचरे में बोतल,पैर से दबा ढक्कन मिला

पुलिस ने बताया विवेक का शव नगर निगम के वाचनालय के पास पड़ा था,लाइब्रेरी की देहरी पर पानी के दो पाऊच, पुडि़या में नमकीन रखा था। शव के पास कचरे के ढेर पर शराब की खाली बोतल और दो गिलास पड़े थे। विवेक का शव पलटा तो उसके पैर के नीचे बोतल का ढक्कन दबा था। जाहिर है हत्यारे ने विवेक के साथ यहां बैठकर शराब पी, फिर उसे मारा।

चुप्पी साध गए बस्ती वाले

हत्यारे ने संकरी गली में विवेक को पत्थरों से कुचला था, वहां कई मकान बने हैं। यहां रहने वालों ने विवेक और हत्यारे के बीच विवाद और पत्थर पटकने की आवाज सुनी होगी। लेकिन सब चुप्पी साधे रहे। पुलिस का कहना है विवेक का शव बस्ती वालों ने सुबह करीब ६ बजे देख लिया लेकिन सुबह ९ बजे तक लोग चुपचाप खून से लथपथ शव को देखकर निकल गए। किसी ने विवेक को नहीं पहचाना।

"हत्याकांड में अहम क्लू मिला है, जल्द ही हत्याकांड का खुलासा होगा। संदेही की तलाश है उसके पकड़े जाने पर वजह का पता चलेगा।" 

"दिनेश कौशल, एएसपी ग्वालियर"

Similar Post You May Like

ताज़ा खबर