राज्यसभा में निर्विरोध चुन लिए गए MP से गए पांचों नेता

552 By 7newsindia.in Sat, Mar 17th 2018 / 10:02:54 प्रशासनिक     

राज्यसभा में रिक्त हुई सीटों पर मध्यप्रदेश से भेजे सभी पांचों उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। मध्यप्रदेश से भाजपा ने राज्यसभा के लिए अजय प्रताप सिंह, कैलाश सोनी, थावरचंद गेहलोत और धर्मेंद्र प्रधान के नामांकन भेजे थे। वहीं कांग्रेस ने पूर्व मंत्री राजमणि पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया था। यह सभी पांच उम्मीदवार अब राज्यसभा सांसद कहलाएंगे। बताते चलें थावरचंद गेहलोत और धर्मेंद्र प्रधान केंद्र में मंत्री हैं।

भोपाल में बंटे प्रमाण पत्र

सभी निर्वाचित राज्यसभा सांसदों के निर्वाचन प्रमाणपत्र भोपाल पहुंच गए। गुरुवार को विधानसभा से निर्वाचन प्रमाण पत्रों का वितरण किया गया। कांग्रेस के राजमणि पटेल और भाजपा के अजयप्रताप सिंह और कैलाश सोनी ने विधानसभा पहुंचकर अपने प्रमाणपत्र हासिल किए। जबकि केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत के पुत्र जितेंद गेहलोत ने भोपाल पहुंचकर प्रमाणपत्र हासिल किया। गुरुवार शाम 3 बजे तक नाम वापस लेने की आखिरी तारीख थी। समय समाप्त होने के बाद 5 रिक्त पदों के लिए 5 उम्मीदवार होने से सभी निर्विरोध निर्वाचित हो गए।

प्रधान का प्रमाण पत्र नहीं दिया

भारतीय जनता पार्टी की ओर से निर्वाचित हुए धर्मेंद्र प्रधान का प्रमाण पत्र नहीं दिया जा सका। निर्वाचन आयोग के अनुसार उनका अथॉरिटी लेटर नहीं आया है, इसके चलते उनका प्रमाण पत्र नहीं दिया गया है। धर्मेन्द्र प्रधान का प्रमाण पत्र वरिष्ठ भाजपा नेता और लीगल सेल के प्रमुख शांतिलाल लोढ़ा लेना चाहते थे, लेकिन रिटर्निंग अफसर ने बिना अथॉरिटी लेटर के प्रमाण पत्र देने से मन कर दिया।

इन्हें मिली राज्यसभा में इंट्री

राज्यसभा में नामांकन जमा होने के एक दिन पहले भाजपा और कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की थी। इनमें भाजपा ने दो केंद्रीय मंत्रियों मंत्री थावरचंद गेहलोत और धर्मेंद्र प्रधान को अपना उम्मीदवार बनाया था। वरिष्ठ भाजपा नेता कैलाश सोनी और अजय प्रताप सिंह पर भी भरेसा जताया था। कैलाश सोनी भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं, वे मीसाबंदी सेनानी संघ के अध्यक्ष और नरसिंहपुर जिला भाजपा अध्यक्ष भी हैं। जबकि अजय प्रताप सिंह भी भाजपा के लिए जाना पहचाना नाम है। भाजपा संगठन में लंबे समय से सक्रिय अजय प्रताप सिंह की दावेदारी विंध्य क्षेत्र में जातिगत समीकरणों के मद्देनजर काफी अहम मानी जा रही थी।

Similar Post You May Like

ताज़ा खबर